નવા લેખો

क़ुर्बानी की नज़र मानना(मानता मानना)

सवाल – शरीअत के रू से क्या हुकम है उस आदमी के बारे में जिस ने नज़र मानी(मानता मानी) के अगर उस का फ़लां काम हो गया, तो वह क़ुर्बानी करेगा, तो अगर उस का फ़लां काम हो जाए, क्या उस पर क़र्रबानी वाजिब होगी. मज़ीद यह भी बताए की …

और पढ़ो »