हदिया अथवा क़र्ज़ की सूरत में ज़कात देना

सवाल – क्या अगर कोई किसी ग़रीब मुसलमान को कुछ पैसे हदिया तथा क़र्ज़ के तौर पर दे दे और देते वक़्त ज़कात की निय्यत करे तो क्या इस तरह से ज़कात अदा हो जाएगी?

जवाब – अगर ज़कात देने वाले ने ग़रीब मुसलमान को हदिया तथा क़र्ज़ देते वक़्त ज़कात की निय्यत कर ली, तो ज़कात अदा हो जाएगी. अलबत्ता अगर उस ने क़र्ज़ केह कर ज़कात दी है, तो उस के लिए उस माल को वापस लेना जाईज़ नहीं होगा. और अगर वह उस माल को वापस लेगा, तो गुनहगार होगा.

नोटः- अगर ज़कात देने वाला ज़कात की रक़म वापस ले ले, तो उस के लिए वापस ली हुई रक़म का इस्तेमाल करना जाईज़ नहीं है, बलकी उस पर वाजिब है के वह वापस ली हुई रक़म को किसी ग़रीब मुसलमान को दे दे.

अल्लाह तआला ज़्यादा जानने वाले हैं.

(وشرط صحة أدائها نية مقارنة له) أي للأداء

قال العلامة ابن عابدين – رحمه الله -: (قوله نية) أشار إلى أنه لا اعتبار للتسمية فلو سماها هبة أو قرضا تجزيه في الأصح (رد المحتار ۲/۲٦۸)

والعبرة لنية الدافع لا لعلم المدفوع إليه حتى لو قال المحترم وهبت لك هذا الشيء أو أقرضتك وينوي به الزكاة وقع عن الزكاة (الفتاوى البزازية ۱/٤۱)

ومن أعطى مسكينا دراهم وسماها هبة أو قرضا ونوى الزكاة فإنها تجزيه، وهو الأصح هكذا في البحر الرائق ناقلا عن المبتغى والقنية (الفتاوى الهندية ۱/۱۷۱)

दारूल इफ़्ता, मद्रसा तालीमुद्दीन

इसिपिंगो बीच, दरबन, दक्षिण अफ्रीका

Source: http://muftionline.co.za/node/155

Check Also

रोज़े की हालत में फ़ोहश तस्वीर या वीडियो देखने या मात्र तसव्वुर की वजह से स्खलन(इन्ज़ाल)

सवाल – अगर कोई व्यक्ति रोज़े की हालत में फ़ोहश तस्वीर या वीडियो देखने या …