Monthly Archives: March 2021

ऐसे माल पर ज़कात जो बेचने के इरादे से ख़रीदा गया हो फिर बेचने का इरादा छोड़ दिया गया हो

सवाल – एक व्यक्ति ने कोई सामान बेचने की निय्यत से ख़रीदा फिर उस ने बेचने का इरादा तर्क कर दिया. कुछ दिनो के बाद फिर उस ने उस सामान को बेचने का फ़ैसला किया, तो क्या उस सामान पर ज़कात वाजिब होगी?

और पढ़ो »

ज़कात की रक़म से खाने पीने की चीज़ें ख़रीद कर ग़रीब को देना

सवाल – क्या ज़कात की रक़म से खाने पीने की चीज़ें ख़रीद कर ग़रीबों को खिलाना जाईज़ है ? क्या माहे रमज़ान में ज़कात की रक़म से ग़रीबों को इफ़तार कराना जाईज़ है?

और पढ़ो »

हदिया अथवा क़र्ज़ की सूरत में ज़कात देना

सवाल – क्या अगर कोई किसी ग़रीब मुसलमान को कुछ पैसे हदिया तथा क़र्ज़ के तौर पर दे दे और देते वक़्त ज़कात की निय्यत करे तो क्या इस तरह से ज़कात अदा हो जाएगी?

और पढ़ो »

क़यामत के दिन हुज़ूर (सल्लल्लाहु अलयहि वसल्लम से सब से ज़्यादह क़रीब शख़्स

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद (रदि.) से रिवायत है के रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलयहि वसल्लम) ने इरशाद फ़रमाया, “क़यामत के दिन मुझ से ज़्यादा क़रीब वह शख़्स होगा जिस ने मुझ पर...

और पढ़ो »

क़बर पर मिट्टी ड़ालने का तरीक़ा

हज़रत अबु हुरैरह (रज़ि.) से रिवायत है के रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलयहि वसल्लम) ने “एक शख़्स की जनाज़े की नमाज़ पढ़ाई फिर उस की क़बर पर आए और उस के सर की तरफ़ से तीन मर्तबा उस की क़बर पर मट्टी ड़ाली.”...

और पढ़ो »

फ़ज़र की नमाज़ और मग़रिब की बाद सो (१००) बार दुरूद शरीफ़

तो हज़रत उम्मे सुलैम (रज़ि.) ने एक शीशी ली और उस में आप (सल्लल्लाहु अलयहि वसल्लम) का मुबारक पसीना जमअ करने लगीं. जब आप (सल्लल्लाहु अलयहि वसल्लम) बेदार हुए, तो सवाल किया के “ए उम्मे सुलैम यह तुम क्या कर रही हो?”...

और पढ़ो »

मोहब्बत का बग़ीचा (सातवां प्रकरण)‎

بسم الله الرحمن الرحيم अल्लाह तआला की महान नेअमत हज़रत अय्यूब (अलै.) अल्लाह तआला के जलीलुल क़द्र नबी थे. जो अल्लाह तआला की तरफ़ से तीव्र रोग से आज़माए गए. चन्द साल के सबर के बाद बिलआख़िर अल्लाह तआला ने उन्हें अपने फ़ज़लो करम से शिफ़ा अता फ़रमाई. उन्हें शिफ़ा …

और पढ़ो »

सब से ज़्यादह नफ़रत के क़ाबिल चीज़ तकब्बुर है

सब से ज़्यादह नफ़रत की चीज़ मेरे ज़हन में तकब्बुर है इतनी नफ़रत मुझे किसी गुनाह से नही जितनी इस से है. युं और भी बड़े बड़े गुनाह हैं जैसे ज़िना (व्याभिचार), शराब पीना वग़ैरह, लेकिन...

और पढ़ो »